25YearsOfDDLJ: सरसों के खेत, कबूतर, करवाचौथ और स्विट्जरलैंड ट्रिप, जानिए किन चीज़ों ने बनाया फिल्म को यादगार

25YearsOfDDLJ: सरसों के खेत, कबूतर, करवाचौथ और स्विट्जरलैंड ट्रिप, जानिए किन चीज़ों ने बनाया फिल्म को यादगार

बॉलीवुड के बादशाह शाहरुख खान और काजोल की फिल्म ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ की रिलीज को 25 साल पूरे हो गए है. इसके साथ ही फिल्म ने काई रिकॉर्ड अपने नाम किये हैं , ऐसे नें फिल्म के फैंस के बीच खासा जश्न है. साथ ही शाहरुख खाान और काजोल ने ट्विटर पर अपना-अपना नाम बदल लिया है. इन दोनों ही कलाकारों ने फिल्म के कैरेक्टर का नाम रखा है. काजोल ने ट्विटर अकाउंट पर अपना नाम बदलकर ‘सिमरन’ कर दिया, जबकि शाहरुख खान ने ‘राज मल्होत्रा’ कर लिया है.

इसके साथ ही दोनों ने फिल्म को लेकर फैंस का आभार व्यक्त किया है. इतना ही नहीं फिल्म के 25 साल के होने की खुशी में लंदन के लिसेस्टर स्क्वायर पर काजल और शाहरुख खान की कांस्य की मूर्तिया लगाई जाएंगी. ऐसे में आपको बताने जा रहे हैं वो पांच ट्रेंड जो इस फिल्म ने सेट किए हैं, और जिन्होंने इस फिल्म को सुपरहिट बनाया है.

सरसों के खेत
सरसों के खेत अब हर किसी को शाहरुख-काजोल बना देते हैं. फिल्म का नाम आते ही हर किसी के जेहन में सरसों के खेत में गले लगाए शाहरुख खान और काजोल आ जाते हैं. इतना ही ये सीन इतना मशूहर हुआ कि अब लोग सरसों के खेत में प्रीवेडिंग फोटोशूट तक करने जाते हैं. बता दें फिल्म का गाना ‘प्यार होता है दीवाना सनम’ सरसों के खेत में फिल्माा गया है.

कबूतर
फिल्म में शाहरुख खान, काजोल, अनुपम खेर और अमरीष पुरी जैसे तमाम सुपरस्टार थे. सभी किरदारों ने इस फिल्म से एक अलग पहचान बनाई. यहां तक कि कबूतरों की भी अलग पहचान बन गई. कबूतरों को दाना देने का एक नया ही चलन शुरू हो गया. इसके साथ ही फिल्म में अमरीष पुरी का वो डायलॉग ‘आओ…आओ…आओ…’ भी खूब मशहूर हुआ.

करवाचौथ
करवाचौथ भी अब होली दीवाली की तरह पूरे देश का हो गया है. पहले करवाचौथ को पंजाब प्रांत के लोग की मनाया करते थे. इस फिल्म की रिलीज के बाद करवाचौथ पूरे देश में मनाया जाने लगा. ऐसे में ये कहना गलता नहीं है कि इस फिल्म ने लोगों को रोमांस के कई अलग आयम सिखा दिए हैं.

NRI लव स्टोरी
इस फिल्म ने ही बॉलीवुड स्क्रीन पर एनआरआई रोमांस के चलन को शुरू किया और इसे हमेशा के लिए हिन्दी सिनेमा का अहम हिस्सा बना दिया.

स्विट्जरलैंड ट्रिप
बढ़ते युवाओं के बीच यूरोप टूर खास तौर पे स्विट्जरलैंड जाने का चस्का इसी फिल्म ने युवाओं को लगाया. इस फिल्म की तरह ही अब युवा पीढ़ी में अपने बैचलर के दिनों में स्विट्जरलैंड जाने का चलन शुरू हुआ.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *