48% माता-पिता बोले- सिलेबस आधा हो, 32% ने कहा- वैक्सीन आने पर ही खुले स्कूल, आपकी क्या है राय ?

School ReOpen in Corona Kaal : स्कूल खोलने और पाठ्यक्रम को लेकर 31.7% अभिभावकों ने कहा है कि जब तक वैक्सीन नहीं आ जाती है, स्कूल न खोले जाएं। 88% अभिभावकों की राय है कि मैट्रिक-इंटर का पाठ्यक्रम छोटा किया जाए। जबकि 48% अभिभावकों का कहना है कि बच्चों पर पढ़ाई का दबाव न बढ़े, इसलिए सिलेबस 50% छोटा कर दिया जाए। मात्र 25% ने ही कहा है कि सितंबर में स्कूल खोल दिए जाएं। ये बातें कोरोना संक्रमण के इस दौर में राज्य सरकार द्वारा किए गए सर्वे में उभरकर सामने आई हैं। 31 अगस्त की रात 12 बजे तक लोगों ने अपनी राय दी है।

नौवीं से 12वीं तक के छात्रों के 12320 अभिभावकों ने इस रायशुमारी में हिस्सा लिया। इनमें सरकारी स्कूलों के 5204, केंद्रीय स्कूल के 933, सरकारी अनुदानित स्कूलों के 656, निजी स्कूलों के 5527 छात्रों के अभिभावक शामिल हुए। मैट्रिक के 8363 और इंटर के 3957 छात्रों के अभिभावक हैं। सर्वे में अभिभावकों के नाम, मोबाइल नंबर, जिले का नाम, ईमेल, बच्चे की कक्षा, स्कूल का नाम और स्थान भी भरना था। पिछली बार हुए सर्वे में 72 हजार अभिभावकों ने राय दी थी। उसमें पहली कक्षा से लेकर इंटरमीडिएट के अभिभावकों ने हिस्सा लिया था।

इनमें सरकारी स्कूलों के अलावा अनुदानित व निजी स्कूलों के विद्यार्थियों के भी अभिभावक शामिल हैं। फीडबैक देने वाले कुल अभिभावकों में सात फीसद अभिभावकों ने जिला, 3.84 फीसद ने राज्य तथा 1.94 फीसद अभिभावकों ने देश में 21 दिनों तक कोरोना के कोई नए मामले नहीं आने के बाद स्कूल खोलने के सुझाव दिए।

छह फीसद ने अक्टूबर, तीन फीसद ने नवंबर तथा चार फीसद ने दिसंबर में स्कूल खोलने के सुझाव दिए। वहीं, 82 फीसद अभिभावकों ने बच्चों के सिलेबस में कटौती करने का भी सुझाव दिया है। अधिसंख्य अभिभावक सिलेबस में 50 फीसद से अधिक कटौती करना चाहते हैं।

इतने अभिभावक इतना फीसद सिलेबस में चाहते हैं कटौती

अभिभावक – इतना प्रतिशत कटौती

574 – 10

2500 – 25

2732 – 40

4091 – 50

इतने अभिभावक चाहते हैं इस प्रकार की शिक्षा

प्रतिदिन क्लास : 3947

एक दिन छोड़कर : 1984

दोनों : 2184

ऑड-इवेन फार्मूला : 2069

प्रैक्टिकल व संदेह दूर करने के लिए बच्चे स्कूल आएं : 2141

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *