अमेरिका में डेंगू से लड़ाई के लिए छोड़े जाएंगे 75 करोड़ मच्छर

फ्लोरिडा: अमेरिका में डेंगू बुखार और जीका वायरस जैसे बीमारियों को फैलाने वाले मच्छरों को रोकने के लिए करोड़ों मच्छरों छोड़ा जाएगा। अमेरिका के फ्लोरिडा में 75 करोड़ जेनेटिकली मोडिफाइड मच्छर (Genetically Modified Mosquito) छोड़े जाएंगे। इस पहल का लक्ष्य है स्थानीय स्तर पर डेंगू और जीका वायरस का खतरा फैलाने वाले मच्छरों की संख्या को घटाना। कई सालों में पर्यावरण विशेषज्ञों के बीच यह बहस का विषय रहा है कि मच्छरों को छोड़ने पर अगर हालात बिगड़ती है तो जिम्मेदार कौन होगा। फिहाल इस प्रोजेक्ट को हरी झंडी मिल चुकी है।

इस सप्ताह फ्लोरिडा कीज मॉस्किटो कंट्रोल डिस्ट्रिक्ट (Florida Keys Mosquito Control District) ने 2021 में पायलट प्रोजेक्ट के लिए धारीदार पैर वाले एडीज इजेप्टाई मच्छर को पर्यावरण में छोड़ने की मंजूरी दे दी है. एडीज इजेप्टाई मच्छर जो मूल रूप से फ्लोरिडा के नहीं है, उन्हें OX5034 के नाम से भी जाना जाता है. यह मच्छर इंसानों में डेंगू, जीका, चिकनगुनिया और पीला बुखार जैसी जानलेवा बीमारियों को प्रसारित करता है. फ्लोरिडा कीज मॉस्किटो कंट्रोल डिस्ट्रिक्ट के अधिकारियों ने दो साल की अवधि के लिए 75 करोड़ संशोधित मच्छरों को छोड़ने की इजाजत दी.

इस काम को ब्रिटिश कम्पनी ऑक्सीटेक को जेनेटिकली मोडिफाइड मच्छर तैयार करने की अनुमति दी थी. लैब में मेल एडीज इजिप्टी मच्छर तैयार किए जाएंगे, इनका नाम OX5034 रखा गया है. इन्हें 2021 में फ्लोरिडा के एक आइलैंड पर रिलीज किया जाएगा. दो साल की अवधि में कुल 75 करोड़ मच्छर छोड़े जाएंगे. कंपनी की योजना है कि करोड़ों की संख्या में आनुवांशिक रूप से परिवर्तित नर मच्छरों को पर्यावरण में जाएगा. यह नर मच्छर मादाओं के साथ मेट करेगा. मादा मच्छर को अंडे देने के लिए खून की आवश्यकता होती है और इसीलिए वो इंसानों को काटती हैं, ऐसे में कंपनी ने इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए नर मच्छरों में आनुवांशिक रूप से कुछ परिवर्तन किए हैं. कंपनी का मानना है कि आनुवांशिक रूप से परिवर्तित नर मच्छर, जो काटते नहीं हैं, वो मादा के साथ मेट करेंगे और इस बीच उनमें से प्रोटीन निकलेगा जो आनुवंशिक तौर पर परिवर्तित है और वो मादा मच्छर को उसके काटने की उम्र से पहले ही मार देगा. कंपनी का मानना है कि वो इस प्रकार रोग फैलाने वाले कीड़ों की आबादी को कम करने में मदद मिलेगी.

ऑक्सिटेक वैज्ञानिक केविन गोर्मन (Kevin Gorman) ने गुरुवार को यूनाइटेड किंगडम (UK) से एक फोन साक्षात्कार में कहा कि कंपनी ने केमैन द्वीप और ब्राजील (Brazil) में इस तरह की परियोजनाएं सफलतापूर्वक की हैं. केविन गोरमन ने कहा,”यह बहुत अच्छी तरह से चला. हमने हाल के वर्षों में एक अरब से ज्यादा अपने मच्छरों को छोड़ा है और उन्होंने पर्यावरण या इंसानो को किसी तरह से प्रभावित नहीं किया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *