अंधविश्वास का अद्भुत खेल, मृत लड़की को कब्र से निकाल जीवित करने की नाकाम कोशिश

बिहार : समस्तीपुर जिले के बधौनी पंचायत में अंधविश्वास का अद्भुत खेल देखने को मिला, जिसमें पूरा गांव मौजूद था और बड़े ही जिज्ञासा नजरों से देखते रहे थे, दरअसल संदेहजनक तरीके से छह दिन पहले एक बारह साल की बच्ची की मृत्यु हो गई थी, जिसे अंतिम संस्कार कर दिया गया था, उसी मृत बच्ची के लाश को भगत कब्र से उखाड़ कर घंटो विधि-विधान के साथ मंत्र जप कर उस मृत बच्ची को पुनर्जीवित करने की प्रयास करते रहे और जुटे।

हजारों की घमासान भीड़ चुपचाप यह कार्यक्रम देखती रही, पुलिस के आने की खबर सुनते ही भगत लाश छोड़कर भाग निकली, जब लोगों ने पकड़ने की कोशिश की तो वो कुछ लाने का बहाना बनाकर खिसक गया, पंचायत के मुखिया पति भोला बिहारी वगैरह जुटकर लाश को दोबारा उसी गड्ढे में दफना दिया, आश्चर्यजनक घटना की चर्चा इलाके में फ़ैल गई है।

विदित हो कि हरिशंकरपुर बधौनी पंचायत के सिरसिया दलित कालनी वार्ड-ग्यारह के रहने वाले बासुदेव मांझी की लगभग 12 साल की पुत्री चंदा कुमारी की मृत्यु तीन अगस्त को घर के बहार खेलते समय अचानक हो गई थी, चर्चा सांप के काटने के कारण से मृत्यु की हुई लेकिन बॉडी पर कोई चिह्न नहीं मिला ।

स्थानीय कुछ लोगों के सांपकटी झराने के मशवरा को अनसुना करते हुए मृतक के लाश को बगल के श्मशान में दफना दिया गया, कुछ लोगों के राय पर अबाबकरपुर के फेमस भगतीनी को बुलाकर झरवाने की सलाह मानकर भगतीनी के कहे मुताबिक गांव वालों की मौजूदगी में शव कब्र से निकल कर हजारों की भीड के समक्ष घंटों विधि-विधान के साथ मंत्रोच्चारण करती रही लेकिन लड़की जीवित न हो सकी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *