34 यात्रियों समेत बस हाईजैक मामले में बड़ा खुलासा : फाइनेंस कंपनी ने गुंडों की ली थी मदद, कंडक्टर और चालक को दिए थे 300-300 रुपये

उत्तर प्रदेश के आगरा में मंगलवार की देर रात हाईजैक हुई बस मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। बस को हाईजैक करने के लिए फाइनेंस कंपनी ने ही गुंडो की मदद ली थी। इतना ही नहीं बस के कंडक्टर और ड्राइवर को फाइनेंस कंपनी ने खाना खिलाया था। बस को सूनसान इलाके में लाने के लिए उन्हें तीन-तीन सौ रुपये भी दिये गए थे। पुलिस सूत्रों के अनुसार ड्राइवर और कंडक्टर का कहना है कि बस मालिक किश्त नहीं चुका पा रहे हैं। इस पर एडीजी ने मामले को गंभीर बताया। उनका कहना हैकि अगर कोई किश्त नहीं चुका पा रहा है तो उसकी वसूली की कानूनी प्रक्रिया होती है। किसी को भी कानून को हाथ में लेने का अधिकार नहीं है। आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

पुलिस के अनुसार, ड्राइवर और कंडक्टर ने बताया कि बस को हाईजैक करने वालों ने खुद को श्रीराम फाइनेंस केंपनी का कर्मचारी बताया। उनका कहना था कि बस मालिक किश्त नहीं चुका पा रहे हैं। वहीं, आगरा के एडीजी ने बताया कि यह एक गंभीर मामला है। अगर किश्त नहीं चुकाया गया था तो उसकी वसूली का कानूनी तरीका होता है। कोई भी ऐसे कानून को हाथ में नहीं ले सकता। आरोपियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई की जाएगी।

इससे पहले यह खबर आई थी कि 34 यात्रियों समेत बस को बदमाशों ने हाईजैक कर लिया है। यह घटना देर रात की है। बताया जा रहा है कि मलपुरा थाना इलाके के दक्षिणी बाईपास पर यह लोग कार में सवार होकर पहुंचे थे। चार लोगों ने कार को रोका। ड्राइवर और कंडक्टर को हाईवे पर छोड़ दिया और बस को अपने साथ अज्ञात जगह पर ले गए। सूचना के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया।

यह एक प्राइवेट बस थी, जिसमें 34 यात्री सवार थे। ड्राइवर और कंडक्टर ने ही पुलिस को वारादात की सूचना दी थी। इसके बाद पुलिस की टीम मौके पर पहुंची और फिर बस की तलाशी शुरू की। यह बस गुरुग्राम से मध्यप्रदेश जा रही थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *