Bihar: कोरोना वायरस का खौफ, बेटे ने संक्रमित पिता के शव को पानी में फेंक कर भागा

दरभंगा : कोरोना वायरस (Covid-19) के कारन पुरे देश में कोहराम मचा हुआ है वहीं, बिहार भी इसकी चपेट में है. इसी बीच कोरोना संकट के इस दौर में कई जगहों से रिश्तों की ऐसी सच्चाई सामने आ रही है जो इंसानियत को शर्मशार करती है. एक ऐसा ही केस बिहार के दरभंगा से सामने आया है. जहां एक बेटे ने अपने कोरोना संक्रमित पिता के लाश का अंतिम संस्कार करने के बजाय पानी में फेंक दिया और फरार हो गया. यह मामला दरभंगा के लहेरियासराय से सामने आया है. एक शख्स दो दिन पहले कोरोना संक्रमित पाया गया था. जिसके बाद प्रशासन ने घर को सील कर दिया था. इसी दौरान सोमवार को उस व्यक्ति की मौत हो गई. जब रिश्तेदार को उस व्यक्ति के मौत की सुचना मिली तो सबने उससे दूरी बना ली.

सोमवार की देर शाम 4 लोग लाश लेकर श्मशान घाट पहुंचे. DMCH में एक दिन पूर्व कोरोना से हुई मौत मामले में अंतिम संस्कार के लिए प्रशासन के अधिकारियों के संग जनप्रतिनिधि आदि वहां पहले से मौजूद थे. इन लोगों को बिना किसी संस्कार सामान के पहुंचे देख जब वहां लोगों ने प्रशन किया, तो लकड़ी आदि लाने की बात कर सभी निकल गए. काफी वक्त होने के बाद भी इन लोगों के नहीं वापस आने पर वहां मौजूद प्रशासनिक अधिकारी एवं जनप्रतिनिधियों को इसका ध्यान आया. इसके बाद वे लोग लाश ढूंढने लगे, लेकिन आसपास कहीं भी शव नजर नहीं आया.

इसके बाद मरने वाले के रिश्तेदार से संपर्क किया गया तो उन्होंने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया. जब इन्हेंं प्रशासनिक कार्रवाई की चेतावनी दी गई,तो मृतक के दो पुत्र वापस लौटे. लाश के बावत पूछे जाने पर वही बगल में जमा पानी में शव रख दिए जाने की बात बतायी. इसके बाद शव के अंतिम संस्कार कराने में प्रशासनिक अधिकारियों के अतिरिक्त वार्ड पार्षद प्रतिनिधि नफीसुल हक रिंकू, जिला शांति समिति सदस्य नवीन कुमार सिन्हा, बजरंग दल के जिला संयोजक राजीव प्रकाश मधुकर सहित अन्य लोग जुट गए. इस घटना की सूचना से पूरा समाज स्तब्ध है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *