पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम के खिलाफ CBI को नहीं मिले कोई सुबूत

CBI ने कल यानि गुरुवार ( 13 Aug ) को बॉम्बे उच्च न्यालय से कहा कि पूर्व वित्त मंत्री चिदंबरम समेत दो अन्य अधिकारीयों के खिलाफ कोई सुबूत नहीं मिला जिससे 63 मून्स टेक्नोलॉजीज कंपनी के आरोपों को साबित कर सके।

ख़बरों के मुताबिक 63 मून्स टेक्नोलॉजीज कंपनी की याचिका की सुनवाई जस्टिस साधना जाधव और जस्टिस एनजे जामदार की खंडपीठ कर रही थी। 63 मून्स टेक्नोलॉजीज कंपनी जिग्नेश शाह की है।

बेंच के सामने CBI के अधिवक्ता हितेन वेनगावकर ने एजेंसी की ओर से एक शपथपत्र ( Affidavit ) दाखिल किया। इसमें कंपनी की ओर से दाखिल की गई शिकायत वित्त मंत्रालय के आर्थिक मामलों के विभाग के चीफ विजिलेंस ऑफिसर को भेज दी गई है।

63 मून्स टेक्नोलॉजीज कंपनी के अधिवक्ता ( Advocate ) इस मामले को हाई प्रोफाइल साजिश बताते हुए जांच कराए जाने की गुहार लगाई। अधिवक्ता की बात को मानते हुए बॉम्बे उच्च न्यालय ने 3 महीने बाद की तिथि तय की है। कंपनी की ओर से 15 Feb, 2019 को CBI के पास मामला दर्ज कराई गयी थी।

कंपनी की ओर से शिकायत में ये कहा गया था की नेशनल स्पॉट एक्सचेंज लि का अरबों रुपये का पेमेंट डिफॉल्ट घोटाला सामने आने पर पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और अन्य दो अधिकारीयों ने अपने पद का गलत इस्तेमाल कर कंपनी को नुकसान पहुंचाया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *