पंचतत्व में विलीन हुए चेतन चौहान, ब्रजघाट में नम आंखों से बेटे ने दी अंतिम विदाई

उत्तर प्रदेश : यूपी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे चेतन चौहान का पार्थिव शरीर सोमवार को दोपहर बाद ब्रजघाट गंगा किनारे पहुंचा। कोरोना वायरस गाइड लाइन के मुताबिक लोगों को अंतिम संस्कार कराया गया और इसके बाद मृतक शरीर घाट पर पहुंचा। राजकीय सम्मान के साथ उनका अंतिम दाह किया गया। बेटा विनायक चौहान ने पीपीइ किट पहनकर उनकी चिता को अग्नि दी। राजनेताओं से लेकर समाजसेवियों और शहरवासियों ने चेतन चौहान को नम आंखों से अंतिम विदाई दी।

जनपद अमरोहा के नौगांव सादात सीट से विधायक व यूपी सरकार में सैनिक कल्याण होमगार्ड, PRD और नागरिक सुरक्षा मंत्रालय मंत्री रहे चेतन चौहान मूलरूप से मुरादाबाद के मूढापांडे के निवासी थे। उनका फैमिली दिल्ली में रहता है।

चेतन चौहान पिछले दिनों कोवीड संक्रमित पाए गए थे। इसके बाद उन्हें लखनऊ के एक अस्पताल में एडमिट कराया गया था, जहां अचानक उनकी शनिवार को तबीयत ख़राब के बाद गुरुग्राम के मेदांता हॉस्पिटल में शिफ्ट किया गया। रविवार शाम मेदांता अस्पताल में चेतन चौहान का निधन हो गया। डॉक्टरों द्वारा मृत्यु घोषित करते ही राजनीतिक गलियारों और उनके चाहने वालों में मातम की लहर दौड़ गई। लोग एक-दूसरे से पता करते रहे कि उनका अंतिम दाह कहां पर होगा और अंतिम संस्कार के लिए खबर लेते रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *