भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार स्टेन स्वामी के पक्ष में उतरे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, केंद्र सरकार पर किया हमला

Ranchi : भीमा कोरेगांव केस (Bhima Koregaon case) में रांची से गिरफ्तार किये गये फादर स्टेन स्वामी मामले में झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सवालिया लहजे में ट्वीट कर पूछा है कि गरीब, वंचितों और आदिवासियों की आवाज उठानेवाले 83 वर्षीय वृद्ध स्टेन स्वामी को गिरफ्तार कर केंद्र की भाजपा सरकार क्या संदेश देना चाहती है ? अपने विरोध की हर आवाज को दबाने की ये कैसी जिद्द? बता दें कि स्‍टेन स्‍वामी को एनआइए ने गुरुवार को रांची से गिरफ्तार किया है। इधर, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष समेत कई कांग्रेस नेता भी स्‍टेन स्‍वामी के पक्ष में उतर आए हैं।

एक बयान जारी कर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह राज्य के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव ने अर्बन नक्सलवाद के नाम पर महाराष्ट्र के भीमा कोरेगांव मामले में फादर स्टेशन स्वामी को हिरासत में लिये जाने की कार्रवाई को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। डॉ. उरांव ने कहा कि अर्बन नक्सलवाद के नाम पर केंद्र सरकार देश के विभिन्न हिस्सों में रहने वाले बुद्धिजीवियों को प्रताड़ित करने की कार्रवाई कर रही है। उन्होंने कहा कि फादर स्टेशन स्वामी 25 वर्षां से रांची में रहकर जनजातीय समुदाय के उत्थान में जुटे हैं, अर्बन नक्सलवाद के नाम पर उन्हें फंसाने की कोशिश की जा रही है।

जानकारी के अनुसार, एक जनवरी 2018 को पुणे के भीमा-कोरेगांव में एक पार्टी के दौरान दलित और मराठा समुदाय के बीच हुई हिंसा मामले में एनआइए ने फादर स्टेन स्वामी को गिरफ्तार किया है. मूल रूप से केरल के रहनेवाले सामाजिक कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी करीब पांच दशक से झारखंड के आदिवासी क्षेत्रों में काम कर रहे हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *