कोरोना संकट: दिल्ली के अस्पताल में भर्ती नवजात शिशु से 1000 km दूर है मां, फिर भी डेली दूध भेजती है

New Delhi: माता-पिता अपने बच्चों के लिए क्या कुछ नहीं करते. ऐसा ही एक मामला लद्दाख से सामने आया. असाधारण बीमारी से पीड़ित एक नवजात शिशु अपनी मां से लगभग 1000 किलोमीटर दूर दिल्ली में भर्ती है.अब उसके घर वाले एक अनोखे तरीके से उस तक मां का दूध पहुंचा रहे हैं. बच्चे का जन्म 16 जून, 2020 को लेह के एक अस्पताल (Hospital) में हुआ. सिज़ेरियन डिलिवरी (Cesarean Delivery) थी. बच्चे को दूध पिलाते वक्त मां को अहसास हुआ कि उसके साथ कुछ ठीक नहीं है. जांच में पता चला कि उसकी आहार नली में मुश्किल थी. लेह के डॉक्टरों ने बच्चे को दिल्ली रिफर किया. लेकिन सिज़ेरियन डिलिवरी थी ऐसे में बच्चे की मां उसके साथ दिल्ली नहीं आ सकती थी. बच्चे के मामा उसे लेकर दिल्ली आए, वहीं उसके पिता मैसूर से दिल्ली पहुंचे.

दिल्ली में बच्चे का ऑपरेशन हुआ. और डॉक्टरों ने कहा कि इसे मां के दूध की जरूरत है. तब उसकी मां ने फ्लाइट (Flight) से अपना दूध भिजवाना शुरू किया. बच्चे के पिता ने बताया कि एयरलाइन (Airline) में कुछ कर्मचारी (Staff) परिचित हैं, उनसे या फिर लेह से दिल्ली आने वाले यात्रियों से मदद मिल जाती है. बता दें कि लेह और दिल्ली के बीच हजार किलोमीटर का फासला है. डायरेक्ट फ्लाइट में लगभग सवा घंटे का वक्त लगता है. मैं जब कर्नाटक से दिल्ली पहुंचा तो अपने बच्चे को छूने से भी डर लग रहा था क्योंकि वहां कोरोना बीमारी फैली है और मैं फ्लाइट से दिल्ली पहुंचा था. बच्चे का दिल्ली के शालीमार बाग के मैक्स अस्पताल में इलाज चल रहा है. बच्चे की आहार नली श्वास नली से जुड़ने के कारण वह कुछ खा नहीं पा रहा था. बाद में इसका ऑपरेशन हुआ और डॉक्टरों ने मां का दूध देने की सलाह दी. हालांकि बच्चे की सर्जरी बहुत मुश्किल थी लेकिन फ़िलहाल सर्जरी हो चुकी है. बच्चे को सर्जरी के बाद अब रिकवरी के लिए अस्पताल में रखा गया है. बच्चा अब ठीक हो चुका है. परिवार ने इस शुक्रवार का रिज़र्वेशन लेह के लिए करवा लिया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *