लगातार बारिश में डूबा कोविड केयर सेंटर, रिक्शे पर सवार होकर आते-जाते हैं डॉक्टर और नर्स

पटना : बिहार में कोविड -19 का प्रकोप बहुत तेजी से बढ़ रहा है, मानसून के वजह से कई जिलों में तेज वर्षा भी हो रही है, कई नदियां अपने उफान पर हैं, इसी वर्षा में स्वास्थ्य व्यवस्था की भी राज खुल है, जहां कोरोना संक्रमितों का ट्रीटमेंट होना चाहिए, वास्तव में वह हॉस्पिटल ही वर्षा की पानी में डूब गया है, हेल्थ विभाग की बेबस तस्वीर सोशल मीडिया में तेजी से वायरल हो रही है।

राज्य के पूर्व हेल्थ मिनिस्टर तेजप्रताप यादव ने बारिश की पानी में डूबे कोरोना सेंटर की फोटो को ट्वीट कर गवर्नमेंट की प्रबन्ध पर सवाल उठाया है, RJD सुप्रीमो लालू प्रसाद के बड़े पुत्र तेजप्रताप ने इस तस्वीर को ट्वीट करते हुए तंज कसा है, उन्होंने लिखा है बदसूरत “विकास” की खूबसूरत तस्वीर..!

यह स्थिति सुपौल जिले के नगर पंचायत के वार्ड नंबर-12 का है, जहां जनता रेस्ट हॉउस में बने कोरोना केयर सेंटर की मामला काफी दयनीय है, कई दिनों तक हुई निरन्तर बारिश में कोरोना केयर सेंटर के परिसर में घुटने से भी अधिक जल भर गया है, जिसके वजह से डॉक्टरों एवं नर्सों को आने-जाने में काफी परेशानियाँ हो रही है।

कोविड केयर सेंटर में जिन नर्सों और डॉक्टरों की ड्यूटी लगी हुई है, उन्हें मुख्य सड़क से अंदर कमरे तक प्रवेश करने में भारी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है, इस कोरोना केयर सेंटर की एक ऐसी फोटो वायरल हो रही है, जो हैरान करने वालो है, वायरल तस्वीर में दिख रहे शख्स की पहचान डॉ अमरेंद्र कुमार के रूप में पुष्टि हुई है, जो रिक्शे के ऊपर कुर्सी पर बैठ कर कोरोना केयर सेंटर के परिसर होकर घुटने भर पानी में जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि कोरोना केयर सेंटर में अभी सिर्फ दो मरीज हैं, कोविड जैसी वैश्विक महामारी के बीच कोरोना केयर सेंटर की ऐसी दुर्दशा कहीं से भी भाग्यशील नहीं दिखाई देती और आलाधिकारियों को इस मसले पर गंभीरता के साथ फैसला लेने की आवश्यकता है।

स्थिति को लेकर पूछे जाने पर स्वास्थ्य प्रबंधक एस अदीब अहमद ने बताया कि जलजमाव की मसला के बाबत वरीय अधिकारियों को सूचित कर दिया गया है, शीघ्र ही जलनिकासी की प्रक्रिया शुरू की जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *