Delhi Roits: हिंसा के एक दिन पहले बना व्हाट्सएप ग्रुप, ‘जय श्रीराम’ न कहने पर 9 लोगों को उतार दिया था मौत के घाट, ग्रुप ने खोले कई राज

‘जय श्रीराम’ न कहने पर 9 लोगों को उतार दिया था मौत के घाट

New Delhi: नार्थ ईस्ट दिल्ली के गोकलपुरी इलाके में हुई हिंसा के मामले में दाखिल चार्जशीट में कई खुलासे हुए हैं। चार्जशीट के अनुसार, दिल्ली दंगों (Delhi Riots) के बीच कुछ दंगाइयों ने एक दूसरे के साथ समन्वय स्थापित करने के लिए एक Whatsapp ग्रुप का इस्तेमाल किया था और ‘जय श्री राम’ (Jai Shri Ram) का नारा लगाने से इनकार करने पर 9 मुस्लिमों की हत्या कर दी थी और उनके शव फेंक दिए गए थे।

दंगा करने के लिए बनाया गया था Whatsapp ग्रुप

आरोपी ‘कट्टर हिंदुत्व एकता’ नाम के एक वॉट्सऐप ग्रुप से जुड़े हुए थे, जिसे 25 फरवरी को मुसलमानों से बदला लेने के लिए बनाया गया था। चार्जशीट में कहा गया है कि उन्होंने इस वॉट्सऐप ग्रुप का उपयोग एक दूसरे के साथ समन्वय करने के साथ ही दंगों के लिए आदमी, हथियार और गोला बारूद प्रदान करने के लिए किया था। पुलिस ने चार्जशीट में कहा है कि वॉट्सऐप ग्रुप बनाने का आरोपी अभी भी फरार है। इस ग्रुप में 125 लोगों को जोड़ा गया थ। जिसमें एक व्हाट्सएप ग्रुप के मेंबर ने कहा था कि मैं गंगा विहार का रहने वाला हू। अगर कोई दिक्कत आए, लोग कम पड़ें तो मुझे बताना में पूरी फौज लेकर आ जाऊंगा. हमारे पास सब समान है, गोली बंदूक सब कुछ. अभी-अभी दो मारे भी हैं और नाले में फेंका है। पुलिस ने कहा कि कट्टर हिंदुत्व एकता’ नाम का यह वॉट्सऐप ग्रुप 25 फरवरी को 12.49 बजे बनाया गया था।

इन नौ लोगों की हत्या का मामला

दिल्ली पुलिस द्वारा 29 जून को अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट विनोद कुमार गौतम के समक्ष नौ लोगों – हमजा, आमीन, भूरे अली, मुर्सलीन, आस मोहम्मद, मुशर्रफ, अकिल अहमद और हाशिम अली और उसके बड़े भाई आमिर खान की कथित हत्या के लिए चार्जशीट दायर की गई थी। 3 मार्च 2020 को गोकुलपुरी थाने में दर्ज तीन FIR पर यह चार्जशीट दायर हुई है। तीनों FIR में 9 लोगों को आरोपी बनाया गया है। हत्या, साजिश रचने समेत कई धाराओ में यह चार्जशीट दायर हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *