‘भगवान सदबुद्धि दे, किसी की मौत से कैंपेन की शुरुआत दुर्भाग्यपूर्ण’ : प्रियंका चतुर्वेदी

पटना : गुप्तेश्वर पांडेय ने बिहार पुलिस के डीजीपी पद से वीआरएस दे दिया है। गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस लेते ही उनकी राजनीति में जाने की अटकलें तेज हो गई हैं। इन्ही अटकलों पर शिवसेना के नेताओं ने गुप्तेश्वर पांडेय पर निशाना साधा है। ​राज्यसभा सांसद और शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी (Priyanka Chaturvedi) ने बिना नाम लिए बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय पर निशाना साधा है। प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा है कि भगवान आपको सदबुद्धि दे, किसी की मौत से कैंपेन की शुरुआत करना दुर्भाग्यपूर्ण है।

प्रियंका चतुर्वेदी ने कहा- राजनीति करनी है तो जम्म के करो’

शिवसेना नेता प्रियंका चतुर्वेदी ने बिना गुप्तेश्वर पांडेय का नाम लिए बुधवार (23 सितंबर) को ट्वीट किया। प्रियंका चतुर्वेदी ने लिखा, ”राजनीति करनी है तो जम्म के करो। चुनाव लड़ना है तो साहस और सत्य पर लड़ो। पर इस ‘गुप्त’ तरीके से, किसी की दुर्भाग्यपूर्ण मौत से अपने कैंपेन की शुरुआत करना वो बहुत दुखदाई भी है और दुर्भाग्यपूर्ण भी। भगवान आपको सफलता से पहले सद्बुद्धि दे, यही मनोकामना है।”

शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा- ईनाम मिलने जा रहा है

शिवसेना नेता और ​राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा, एक आईपीएस की अपनी प्रतिष्ठा होती है और बिहार के डीजीपी साहब ने जिस तरह की बयानबाजी मुंबई के केस के बारे में की मुझे लगता है कि वो उनका पॉलिटिकल पार्टी जो उनको उम्मीदवार बनाएगी, उसको लेकर एक पॉलिटिकल अजेंडा चला रहे थे। उनको अब उसका ईनाम मिलने जा रहा है।

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा- 

रिटायरमेंट लेने पर गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा, आज की तारीख में मैं DGP नहीं हूं। वो जो नियम कानून हैं जो सरकारी अधिकारी पर लागू होते हैं वो मुझ पर अब लागू नहीं होते। मैंने न कोई पॉलिटिकल पार्टी ज्वाइन की है न ही मैं अभी कोई पॉलिटिल व्यक्ति हूं। जब ज्वाइन करुंगा तो आप सबको बताकर के ज्वाइन करुंगा।”

उन्होंने कहा, सोसायटी में काम करने का तरीका केवल राजनीति ज्वाइन करना नहीं है। बिना राजनीति ज्वाइन किए हुए भी समाज में सेवा की जा सकती है। मैं जब तय करुंगा की राजनीति में जाना है और तय करुंगा की कौन सी पार्टी में जाना है मैं बता दूंगा।

मंगलवार (22 सितंबर) की देर रात गुप्तेश्वर पांडेय ने अपने पद से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ले ली है। उन्होंने सरकार को वीआरएस के लिए आवदेन किया था, जिसे स्वीकार कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *