हेट स्पीच और दिल्ली दंगा मामला: कोर्ट ने BJP नेताओं के खिलाफ़ FIR दर्ज करने का अनुरोध खारिज किया

New Delhi: भाजपा नेता अनुराग ठाकुर और प्रवेश सिंह वर्मा के खिलाफ़ दिल्ली की एक अदालत ने माकपा नेता बृंदा करात की एक याचिका को खारिज कर दिया. याचिका में इन दो नेताओं द्वारा दी गयी कथित हेट स्पीच के लिए FIR दर्ज करने की मांग की गयी थी. एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट विशाल पाहुजा द्वारा. उन्होंने कहा कि इसके लिए भारत सरकार से इजाजत लेना ज़रूरी है, जो याचिकाकर्ताओं ने नहीं ली है.

आप को बता दें की, इस साल फ़रवरी में जब दिल्ली में दंगे भड़के थे, उस वक्त केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर (Anurag Thakur), सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा (Pravesh Sahib Singh Varma) और कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) द्वारा दिए गए विवादित बयान वायरल हुए थे. बृंदा करात (Birinda Karat) इस वक्त एडिशनल चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट (Additional Chief Metropolitan Magistrate) के न्यायालय में याचिका लेकर पहुंची थीं कि संसद मार्ग थाने को अनुराग ठाकुर और प्रवेश वर्मा के विरुद्ध IPC की धारा 153A/153B/295A/298/504/506 के तहत FIR दर्ज करने का आदेश दिया जाए.

याचिकाकर्ताओं ने कहा था कि बीजेपी सासंद प्रवेश वर्मा ने 28 जनवरी को कहा था कि कश्मीर में जो कश्मीरी पंडितों के साथ हुआ वह दिल्ली में भी हो सकता है. साथ ही चेताया था कि शाहीन बाग में CAA के विरोध प्रदर्शन कर रहे लाखों लोग घरों में घुस कर लोगों की हत्या और महिलाओं के साथ रेप कर सकते हैं. वहीं अनुराग ठाकुर ने दिल्ली विधानसभा चुनाव प्रचार के बीच एक जनसभा में ‘गोली मारो’ वाला विवादित बयान दिया था. इन बयानों को लेकर चुनाव आयोग ने तब BJP के दोनों नेताओं के खिलाफ कार्रवाई की थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *