रीढ़ की हड्डी तोड़ी, जीभ काट दी, 15 दिन सिर्फ इशारे से बताती रही, पीड़िता के पिता बोले- “दोषियों को फांसी दो”

Hathras-gang-rape-case: हाथरस की गैंगरेप पीड़िता ने मंगलवार सुबह दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया. मृतका के पिता ने अपनी बेटी के लिए सरका से इंसाफ की मांग करते हुए कहा कि दोषियों को फांसी से कम सजा कुछ भी नहीं होनी चाहिए. पिता का कहना है कि आरोपियों को किसी चीज का डर नहीं है, इसलिए उन्होंने इस खौफनाक घटना को अंजाम दिया. जो उनकी बेटी ने झेला है ऐसी परिस्थिति किसी और लड़की को न झेलनी पड़े इसलिए दोषियों को जल्द से जल्द फांसी की सजा मिलनी चाहि।

आपको बता दें कि हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र की रहने वाली दलित युवती के साथ 14 सितंबर को गांव के ही चार युवकों ने गैंगरेप किया था. आरोपियों ने युवती का गला दबाकर उसकी हत्या करने की कोशिश की थी, जिसमें उसके गले के पीछे की हड्डी फ्रैक्चर हो गई. पहले युवती को अलीगढ़ के जेएन मेडिकल में भर्ती कराया गया था. सोमवार को उसकी हालत बिगड़ने पर दिल्ली के सफदरजंग हॉस्पिटल में रेफर किया गया था. जहां मंगलवार सुबह उसकी मौत हो गई.

परिजनों के द्वारा पुलिस को दी गई तहरीर के मुताबिक उनकी 19 वर्षीय बेटी पशुओं का चारा लेने के लिए खेत गई थी. इसी दौरान संदीप, लवकुश, रामू और रवि ने उसके साथ हैवानियत की. फिर जान से मारने की नीयत से उस पर हमला किया था. युवती के चिल्लाने की आवाज सुनकर जब ग्रामीण घटना स्थल की ओर दौड़े तो चारों आरोपी फरार हो गए. पुलिस ने एक-एक करके वारदात में शामिल चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है. यूपी सरकार ने पीड़िता के परिवार को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता मुहैया कराई है.

‘असंवेदनशील सत्ता से नहीं कोई उम्मीद’
यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्वीट किया, ‘हाथरस की गैंग रेप एवं दरिंदगी की शिकार एक बेबस दलित बेटी ने आख़िरकार दम तोड़ दिया। नम आंखों से पुष्पांजलि! आज की असंवेदनशील सत्ता से अब कोई उम्मीद नहीं बची।’

पीड़िता के पिता से प्रियंका बोलीं, मिलेगा न्याय
प्रियंका गांधी ने हाथरस रेप पीड़िता के पिता से फोन पर बात कर कहा, ‘हम आपके न्याय की लड़ाई लड़ेंगे, अभी आपको घर तक पहुंचाने के इंतजाम कर रहे हैं। मैं जल्द आपके घर आऊंगी। आपने अपनी बेटी खोई है, मैं आपका दर्द समझ सकती हूं। हम आपके साथ हैं।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *