झामुमो का बड़ा बयान : लालू की पार्टी राजद है ‘मक्कार’, JMM बिहार में अकेले इन 7 सीटों पर लड़ेंगे चुनाव

झारखंड की सत्तारूढ़ पार्टी झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने बिहार विधानसभा चुनाव में सात सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है। रांची में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पार्टी के महासचिव सुप्रीयो भट्टाचार्य ने बताया कि झामुमो अधिकार की राजनीति करती है, खैरात की नहीं। भट्टाचार्य ने यह भी कहा कि अभी वह उन्हीं सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते हैं जहां से जीत तय है।

बिहार विधानसभा चुनाव में झामुमो परिवार ने 7 सीटों पर लड़ने का फैसला किया है। इन सात सीटों में चकाई, झाझा, कटोरिया, धमदाहा, नाथनगर, मनिहारी, पीरपैंती शामिल है। बता दें कि वर्ष 2005 में चकाई सीट झामुमो ने जीती थी।

झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) ने बिहार विधानसभा चुनाव में लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्ट्रीय जनता दल को ‘मक्कार’ करार देते हुए सात सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का एलान किया. मंगलवार (6 अक्टूबर, 2020) को झामुमो के केंद्रीय महासचिव एवं प्रवक्ता सुप्रियो भट्टाचार्य ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके यह जानकारी दी.

श्री भट्टाचार्य ने कहा कि बिहार झाझा, चकाई, कटोरिया, धमदाहा, मनिहारी, पीरपैंती, नाथनगर विधानसभा सीटों पर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) और राष्ट्रीय जनता दल (राजद) की अगुवाई वाले महागठबंधन को चुनौती देने का एलान कर दिया. उन्होंने कहा कि झामुमो को उम्मीद थी कि लालू प्रसाद के सामाजिक न्याय की लड़ाई में उसकी भी भागीदारी होगी, लेकिन ऐसा हुआ नहीं.

झामुमो के केंद्रीय प्रवक्ता ने कहा कि अब स्थिति स्पष्ट हो गयी है. उनकी पार्टी अकेेले दम पर चुनाव लड़ेगी. उन्हीं सीटों पर लड़ेगी, जहां उसकी जीत सुनिश्चित होगी. श्री भट्टाचार्य ने कहा कि भाजपा जैसी सांप्रदायिक और जनता दल (यूनाइटेड) जैसी नकारात्मक शक्तियों को परास्त करने के लिए वे बिहार में महागठबंधन के अगुवाई राजद के साथ चुनाव लड़ना चाहते थे.

झामुमो नेता ने कहा कि वर्ष 2015 के बिहार विधानसभा चुनावों में तत्कालीन राजद-जदयू-कांग्रेस गठबंधन का समर्थन झामुमो ने किया. इस बार भी यही करना चाहता था, लेकिन राजनीति में परिस्थितियां बदल जाती हैं. उन्होंने कहा कि आज का राजद का नेतृत्व पुराने दिनों को शायद याद नहीं रखना चाहता. या वह हमारे संघर्ष को मान्यता नहीं देना चाहता.

श्री भट्टाचार्य ने कहा, ‘हमने पहले भी कहा है कि हम सम्मान से कभी समझौता नहीं करेंगे. आज इस बात को कहने में कोई हिचक नहीं कि राष्ट्रीय जनता दल ने जो राजनीतिक मक्कारी की है, हम उसके खिलाफ बोलने के लिए मजबूर हैं.’ उन्होंने कहा कि दो दिन पहले महागठबंधन की बैठक में राजद अध्यक्ष तेजस्वी यादव ने कहा था कि वह 144 सीटों पर लड़ेंगे. इस लड़ाई में हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाले झामुमो को भी अपने साथ रखेंगे.

श्री भट्टाचार्य ने कहा कि अब तय हो गया है कि वे गठबंधन का हिस्सा नहीं बनेंगे. कम सीटों पर लड़ेंगे, लेकिन निर्णायक सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. उन्हीं सीटों पर लड़ेंगे, जो सीटें जीत सकें. कहा, ‘हमें बिहार की जनता का समर्थन चाहिए. वहां के मतदाताओं का समर्थन चाहिए. हमें राजद या जदयू का समर्थन नहीं चाहिए. हमारे कार्यकर्ता इतने सक्षम हैं कि हम जहां भी चुनाव लड़ेंगे, वहां जीतेंगे.’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *