Kanpur  case: विकास दुबे के दो और साथी बऊआ दुबे और प्रभात मिश्रा पुलिस मुठभेड़ में ढेर

उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले के बिकरू गांव में विकाश दुबे को पकड़ने गए 8 पुलिसकर्मियों को बदमाशों ने शहीद कर दिया। इसके बाद से कुख्यात विकाश दुबे की तलाश में पुलिस अपनी एड़ी छोटी एक कर दी लेकिन अबतक विकाश पुलिस के हाथ लगा नहीं लेकिन इस दौरान इसके कई साथी मारे गए। पहले विकास दुबे का करीबी साथी अमर दुबे को हमीरपुर जिले में पुलिस एनकाउंटर में ढेर कर दिया गया और अब इसके 2 और साथी प्रभात मिश्रा और बऊआ दुबे को पुलिस एनकाउंटर में ढेर कर दिया गया।

विकास दुबे को फरीदाबाद में एक होटल में छिपे होने की सुचना पुलिस को मिली लेकिन वो वहां से भाग निकला। इसकी मदद करने वाला साथी अपराधी प्रभात मिश्रा को गुरुवार को पुलिस एनकाउंटर में ढेर कर दिया। आईजी रेंज कानपुर के मुताबिक तीन लोगों ने विकास दुबे को फरीदाबाद में छिपने में सहायता की थी। जिसमे से एक प्रभात मिश्रा भी था। प्रभात मिश्रा व बऊआ दुबे इन दोनों में 50 हज़ार इनाम घोषित था।
पुलिस ने बताया कि न्यालय से ट्रांजिट रिमांड मिलने के बाद आरोपी प्रभात मिश्रा को यूपी पुलिस के हवाले करने के लिए कानपुर लाया जा रहा था। इसी बीच पुलिस के पिस्तौल छीनकर भागने का प्रयास किया और फायरिंग भी की ,जवाबी करवाई में पुलिस ने भी गोली चलायी जिसमे प्रभात ढेर हो गया।

एक अन्य एनकाउंटर में विकास दुबे का साथी बऊआ दुबे भी ढेर हो गया। ये एनकाउंटर तब हुवा जब बऊआ दुबे अपने तीन साथियों के साथ एक एक Swift Dzire कार को लूटकर भागने के कोशिश में था। कचौरा रोड पर पुलिस के रोके जाने पर उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी करवाई की जिसमे बऊआ दुबे मारा गया। हालाँकि इस बीच बाकि 3 साथी भागने में कामयाब रहे। इन सब की जानकारी इटावा SSP आकाश तोमर ने दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *