रिम्स निदेशक के बंगले में शिफ्ट किये गए लालू यादव, JDU ने कहा- सत्ता का बेरहम चेहरा यही है

राजद प्रमुख लालू प्रसाद यदव को कोरोना वारयस संकट से बचाने के लिए बुधवार को रिम्स निदेशक के बंग्ले में शिफ्ट कर दिया गया। गौरतलब है कि लालू यदव 950 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में सजायाफ्ता हैं। झारखंड के सबसे बड़े चिकित्सा संस्थान RIMS की कार्यकारी निदेशक डॉ. मंजू गड़ी ने बताया कि लालू यादव को रिम्स निदेशक के बंग्ले में शिफ्ट कर दिया गया क्योंकि उन्हें रिम्स के पेइंग वार्ड में कोरोना वायरस संक्रमण होने की आशंका थी।

लालू यादव को रिम्स निदेशक के बंग्ले में शिफ्ट किये जाने पर जदयू प्रवक्ता राजीव रंजन ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा कि सत्ता का बेरहम चेहरा यही है। लालू यादव सजायाफ्ता हैं लेकिन फिर भी इनके लिए वीआईपी कल्चर। आगे उन्होंने ने कहा कि कोरोना मरीजों के लिए अस्पताल में बेड नहीं है और लालू यदव को रिम्स निदेशक के आवास में ही शिफ्ट कर दिया जाता है। इसमें एक बात और समझ ये आती है कि झारखण्ड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन सरकार लालू को नजरअंदाज नहीं कर सकती है। इसकी कि सब से बड़ी वजह ये है कि खुद लालू कि पार्टी RJD भी झारखंड की सरकार में साझेदार है। इसलिए लालू यादव को पेंइग वार्ड से रिम्स निदेशक के आवास में स्थानांतरित कर दिया गया।

जानकारी के लिए आपको बतादें लालू यादव की चिकित्सा कर रहे डॉ. उमेश प्रसाद एवं उनके सहयोगी किसी चिकित्सक तथा चिकित्सा कर्मी को Covid -19 से संक्रमित नहीं पाया गया था, लेकिन उनके वार्ड के बाहर सुरक्षा में तैनात 3 सुरक्षाकर्मियों को कुछ दिनों पूर्व कोरोना संक्रमित पाया गया था इसी बात को देखते हुए एहतियातन लालू को कोरोना संक्रमण के किसी खतरे से बचाने के लिए निदेशक के बंग्ले में शिफ्ट किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *