नीतीश का साथ छोड़ अकेले लड़ेगी एलजेपी, चुनाव बाद बीजेपी से मिलाएगी हाथ

इस वक्त एक बड़ी खबर दिल्ली से सामने आ रही है, जहां लोजपा की संसदीय बोर्ड की बैठक खत्म हो गई है. इस बैठक में बड़ा फैसला लिया गया है. लोजपा ने अकेले विधानसभा चुनाव लड़ने का बड़ा फैसला किया है.

इसके साथ ही बैठक में एलजेपी और बीजेपी सरकार बनाने का प्रस्ताव भी पास हुआ. बैठक में कहा गया है कि एलजेपी के सभी विधायक प्रधानमंत्री मोदी के हाथो को और मजबूत करेंगे.

बता दें कि इससे पहले लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के अध्यक्ष चिराग पासवान ने अपनी पार्टी के ‘बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट’ दृष्टि पत्र के लिए शनिवार को लोगों का ‘‘आशीर्वाद’’ मांगा था. तभी से ये कयास लगाए जा रहे थे कि वे चुनाव में अकेले उतर सकते हैं. चिराग पासवान ने एक बयान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की थी और कहा है कि उनकी पार्टी (लोजपा) के सभी उम्मीदवार प्रधानमंत्री के हाथ मजबूत करेंगे.

लोजपा सूत्रों ने बताया कि पार्टी बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा में 143 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है और भाजपा उम्मीदवारों के खिलाफ वह अपना उम्मीदवार नहीं उतारेगी. इसके अलावा चिराग पासवान ने भाजपा अध्यक्ष जे पी नड्डा से भी मुलाकात की थी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी बात की है क्योंकि भाजपा नेतृत्व गठबंधन को बनाए रखना चाहता है.

बिहार में तीन चरणों में 28 अक्टूबर, तीन नंवबर और सात नवंबर को मतदान होगा, जबकि 10 नवंबर को मतगणना होगी .

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *