मध्य प्रदेश: 10 साल के बच्चे ने मात्र 30 सेकेंड में चोरी किए 10 लाख रु, CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के नीमच जिले के जावद क्षेत्र में एक 10 वर्ष के बच्चे ने बैंक में दस लाख चोरी की वारदात (Crime) को अंजाम दिया है। सबसे व्यस्त वक्त में यह चोरी बैंक में हुआ है। बताया जा रहा है कि 10 साल के बच्चे ने मात्र 30 Sce में इस चोरी के कारनामा को अंजाम दिया है। बैंक स्टॉफ (Bank Staff) और बैंक में मौजूद लोगों को इसकी भनक भी नहीं लगी।

इस घटना का खुलासा CCTV फुटेज से हुआ है। CCTV फुटेज में एक बच्चा सुबह 11 बजे बैंक में आता है। वह एक कैशियर के रुम में दाखिल होता है और काउंटर के सामने खड़े कस्टमर को मालूम भी नहीं होने देता है कि उसकी नाक के नीचे चोरी हो रही है। बच्चे के लिए काउंटर डेस्क (Counter Desk) छुपने के लिए काफी था। इसके बाद वह तेजी से नोटों की बण्डल को एक थैले में गिरा देता है और जल्द ही बाहर निकल आता है। वह 30 सेकंड से भी कम वक्त में अंदर से बाहर आ जाता है। बच्चा जैसे ही चोरी करके भगने लगाता है तो बैंक का अलार्म बज उठता है और बैंक का गार्ड उसके पीछे भागता है।

पुलिस को CCTV फुटेज से मालूम चलता है कि 20 साल का कोई व्यक्ति बच्चे को निर्देश दे रहा था। यह युवक 30 Min तक बैंक के अंदर ही मौजूद था। जैसे ही उसने देखा कि एक कैशियर अपनी सीट से उठकर दूसरे कमरे में चला गया तो उसने बच्चे को इशारा किया, जो बाहर खड़ा था। इसके बाद उस बच्चे ने काउंटर पर रखे नोटों के गडडी चुरा लिए और फरार हो गया।

नीमच जिले के एसपी मनोज राय (SP Manoj Roy ) ने कहा कि आरोपी बहुत छोटा था इसलिए कैश काउंटर (Cash Counter) के सामने खड़े लोग उसे पैसे चुराते हुए नहीं देख सकते थे। फोरेंसिक विशेषज्ञों ने क्राइम स्पॉट (Crime Spot) की जांच की है। जावद पुलिस थाना प्रभारी ओपी मिश्रा (OP Mishra) ने कहा कि बैंक के बाहर लगे CCTV फुटेज से मालूम चलता है कि युवक और बच्चा अलग-अलग रासते में भाग रहे थे। मिश्रा ने कहा कि कई संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है। इलाके में सड़क किनारे स्टॉल लगाने वाले कुछ लोगों को पूछताछ के लिए बुलाया गया है। निजी सुरक्षा गार्ड (Personal Security Guard) से भी पूछताछ की जा रही है। पुलिस का मानना ​​है कि एक गिरोह ने कुछ दिनों के लिए बैंक की रेकी की और क्राइम करने के लिए नाबालिग का सहारा लिया और उसको भेजा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *