मेरठ: कोरोना की जांच में भी फिक्सिंग, 2500 में Covid-19 की फर्जी निगेटिव रिपोर्ट, हॉस्पिटल किया सील

मेरठ: कोरोना वायरस की जांच 2500 रुपये दीजिए और Covid-19 की निगेटिव रिपोर्ट गारंटी से आपके हाथ में। यानी अब कोरोना की जांच में भी हेरा-फेरी। कुछ ऐसा दावा करते हुए प्राइवेट अस्पताल के एक वीडियो वायरल से हड़कंप मच गया है। हरकत में आए स्वास्थ्य विभाग (Health Department) ने प्राइवेट अस्पताल और उसके मैनेजर के विरुद्ध लिसाड़ी गेट थाने में दो धाराओं में FIR दर्ज कराया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने बेहद गंभीर मामला मानते हुए CMO से रिपोर्ट तलब की है। उधर, कई प्राइवेट अस्पतालों पर भी शक की सुई घूमने लगी है। देर रात डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट (DM) ने हॉस्पिटल को सील करने और लाइसेंस कैंसिल करने का निर्देश दिया।

यह था पूरा मामला

मेरठ में शनिवार को ढाई मिनट का एक वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में एक शख्स बता रहा था कि 2500 रुपए में कोरोना वायरस की फर्जी निगेटिव रिपोर्ट बनवा देगा। यह एक सप्ताह तक मान्य होगी। उसे कहीं भी ले जा सकते हैं। किसी को भी दिखा सकते हैं। टेस्ट कराओगे तो पॉजिटिव रिपोर्ट आ सकती है और 14 दिन के लिए इलाज और क्वारंटीन होना पड़ सकता है। यह रिपोर्ट निगेटिव ही आएगी। वीडियो में यह भी दिखाई दे रहा है कि एक आदमी हॉस्पिटल मैनेजर को 2,000 रुपए दे रहा है और बाकी बचे 500 रुपए रिपोर्ट आने के बाद देने का वादा कर रहा है। कुमार का कहना है कि ‘इस वीडियो में यह सामने आया कि अस्पताल का मैनेजर शाह आलम पैसों के बदले में कोरोना की झूठी रिपोर्ट बनाने का वादा कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *