फिल्म एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के लिए सबसे बड़ी परेशानी बन गए हैं नीतीश : अधिवक्ता सतीश मानेशिंदे

पटना : बॉलीवुड फिल्म एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के लिए नीतीश कुमार सबसे बड़े विलेन बन गये हैं। एक्टर सुशांत सिंह राजपूत केस की परीक्षण CBI से कराने के लिए बिहार गवर्नमेंट ने सिफारिश कर दी है। सीएम नीतीश कुमार ने कुछ देर पहले खुद भी ट्वीट कर इस बात की खबर दी है लेकिन सुशांत के मामले में इलजाम झेल रही एक्ट्रेस रिया चक्रवर्ती के अधिवक्ता ने अब राज्य सरकार के इस निर्णय पर ही प्रशन्न खड़े कर दिए हैं। रिया चक्रवर्ती के अधिवक्ता की मानें तो नीतीश गवर्नमेंट के पास CBI परीक्षण की सिफारिश करने का अधिकार ही नहीं है।

राज्य गवर्नमेंट ने इस मामले में जैसे ही CBI जांच की अनुशंसा की अभिक्रिया का दौर शुरू हो गया लेकिन रिया चक्रवर्ती के अधिवक्ता सतीश मानेशिंदे ने नीतीश सरकार की इस अनुशंसा पर ही प्रशन्न खड़े कर दिए हैं। उन्होंने कहा है कि ऐसे मामले एक सूबे से दूसरे सूबे में स्थानांतरण नहीं किए जा सकते। राज्य सरकार को इस केस में उपस्तिथ होने का कोई कानूनी हक नहीं है। अधिक से अधिक वह जीरो FIR कर सकती है और वह भी उसे मुंबई पुलिस को स्थानांतरण करनी होगी। रिया के लॉयर ने कहा है कि एक ऐसा केस CBI को तबादला करना जिसमें उनका कानूनी अधिकार ही नहीं है, पूरी तरह से निराधार है। सतीश मानेशिंदे ने कहा है कि वह इस केस में पहले ही सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा चुके हैं और 5 Aug को होने वाली पेशी में बहुत कुछ भरोसा करेगा।

आपको बता दें कि बिहार में रिया चक्रवर्ती के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। राज्य के पुलिस की ओर से की जा रही परीक्षण पर शीघ्र प्रतिबंध लगाने की मांग भी की है लेकिन अब तक इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई नहीं हो सकी है। इस केस में रिया चक्रवर्ती की तरफ से दायर विनती-पत्र पर राज्य सरकार और फिर बाद में महाराष्ट्र गवर्नमेंट ने क्या व्यक्तित्व लगाई है। बिहार पुलिस निरन्तर मुंबई में परीक्षण कर रही थी लेकिन मुंबई पुलिस के हाव भाव को देखते हुए सुशांत के परिजन वालों ने CBI जांच की मांग रखी और फिर बिहार सरकार ने इसकी सीबीआई जांच कराने की सिफारिश कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *