विद्यालय, महाविद्यालय खोलने से छात्रों में बढ़ेगा हर्ड इम्यूनिटी’ कोरोना महामारी के बीच एम्स प्रोफेसरों की विचार

New Delhi : कोरोना महामारी के कारण पूरी दुनिया चिंतित में है, इससे लड़ने के लिए हर मुमकिन कोशिश किए जा रहे हैं, परन्तु अभी तक कोई इलाज कारगर साबित नहीं हो सका है, इसी दौरान AIIMS के एक प्रोफेसरों के ग्रुप ने गवर्नमेंट को राय दिया है कि विद्यालय, महाविद्यालय को फिर से खोला जाना चाहिए, जिससे स्टूडेंट्स के बीच सामूहिक तौर पर हर्ड इम्यूनिटी डेवेलप हो।

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इन चिकित्साविदों ने बताया कि भारत में कोवीड से सामना करने के लिए टीकों के समरूप इंतेजाम होना चाहिए, AIIMS के प्रोफेसर संजय कुमार राय कहते हैं, विद्यालय, महाविद्यालय खुलने से स्टूडेंट्स के बीच हर्ड इम्यूनिटी विकसित होगी, इससे कोरोना की लड़ाई और सरल हो जाएगी, वहीं डीवाई पाटिल पुणे में प्रोफेसर अमिताभ बनर्जी ने कहा कि इंडिया में कोवीड से लड़ने के लिए स्कूल कॉलेज खोलना भी कारगर हो सकता है, उन्होंने इसके लिए USA का मिसाल दिया, उन्होंने बताया कि USA में 24 जिले में एक भी बच्चे की मृत्यु नहीं हुई है।

HRD ने राज्य और अभिभावक से मांगा फीडबैक-

शिक्षा मंत्रालय ने विद्यालय और कॉलेज खोलने को लेकर राज्य सरकार और बच्चों के माता-पिता से फीडबैक मांगा है, मंत्रालय ने पूछा है कि स्कूल कब और कैसे खोले जाएं इसके लिए पैरेंट्स अपना सलाह दें, इसके साथ ही मंत्रालय ने सभी सूबे के सचिव को भी खत लिखा है।

CBSE के सारांश में 30 प्रतिशत कटौती-

बता दें की कोरोना संकट को देखते हुए इस बार CBSE ने 30 प्रतिशत सिलेबस में कटौती की है, इसके अतिरिक्त ICSE बोर्ड भी 25 प्रतिशत सिलेबस कटौती करने पर इरादा कर रही है, सिलेबस कटौती का निर्णय कम क्लास होने के वजह से लिया गया है।

भारत में कोवीड-19 के कुल मामले 11,18,043 हो गये हैं जिसमें 3,90,459 एक्टिव मामले, 7,00,087 ठीक / डिस्चार्ज /माइग्रेट और 27,497 मृत्यु शामिल हैं, हेल्थ मिनिस्ट्री की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 40,425 नये केसेस सामने आये हैं जबकि 681 लोगों की मृत्यु हुई है, देश में कोरोना केस 11 लाख से अधिक हो चुके हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *