असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ अवमानना मामले को लेकर सर्वोच्च न्यायालय में याचिका

लखनऊ : अयोध्या पर सर्वोच्च न्यायालय के निर्णय पर बहस को लेकर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी की परेशानी बढ़ सकती हैं। ओवैसी के बयानों को अदालत की प्रभाव को कम करने और अनादर करने वाला बताते हुए सर्वोच्च न्यायालय में तिरस्कार याचिका दर्ज की गई है। साथ ही उनके बयानों को हिंदुओं की भावनाओं को चोट पहुंचाने वाला और मुसलमानों को भड़काने वाला बताकर कार्रवाई की मांग की गई है।

आगे आपको बता दें विरेश सांडिल्य और एक वकील की ओर से जारी याचिका में कहा गया है कि असदुद्दीन ओवैसी ने अयोध्या में भूमि पूजन से पहले एक न्यूज चैनल पर कोर्ट की शुद्धता और बुद्धिमता को लेकर निंदापूर्ण बयान दिए। याचिका में कहा गया है, ”इस कोर्ट के निर्णय को सुनाने से पहले राम मंदिर का तकरार बहुत लंबे समय से लंबित था, तिरस्कार करने वाले विवाद को लेकर झूठे और बेबुनियाद बयान दे रहे हैं, बिना करोड़ों हिंदुओं की भावनाओं की परवाह किए, और इस तरह के बयान देकर वे मुस्लिम समुदाय को भड़काने की प्रयास कर रहे हैं।”

आगे बता दें याचिका में कहा गया है कि तीस जुलाई को दिए असदुद्दीन ओवैसी के बयान से करोड़ों भारतीयों की धार्मिक भावना को चोट पहुंची जिनकी भगवान राम में श्रद्धा है। इसमें कहा गया है, ”टेलीविजन पर यह बयान देकर उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का अपमान किया और यह भी दिखाया कि उनका देश की न्यायिक व्यवस्था में भरोसा नहीं है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *