पीएम मोदी के भाषण शुरू होने से पहले डिसलाइक्स का लगा अम्बार , बीजेपी का कांग्रेस पर आरोप

New Delhi :पीएम मोदी ने 3 सितंबर की रात को एक वीडियो कॉन्फ्रेंस की. रात 11 बजे से ये कॉन्फ्रेंस शुरू हुई. इसमें उन्होंने प्रोबेशनरी IPS अधिकारियों को संबोधित किया. हैदराबाद की सरदार वल्लभ भाई पटेल नेशनल पुलिस एकेडमी का ‘दीक्षांत परेड इवेंट’ था, इसी में पीएम मोदी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए जुड़े. भारतीय जनता पार्टी के यूट्यूब चैनल ने पीएम के एड्रेस को 11 बजे का प्रीमियर किया गया . एड्रेस के शुरू होने से पहले ही लाइव टेलीकास्ट का रिमाइंडर लगा दिया.

इसी बीच हुआ ये कि लाइव टेलीकास्ट के लिए जो टाइमर सेट हुआ था, उसे भर-भर कर डिसलाइक्स मिलने लगे. 11 बजे के पहले आखिरी बार जब हमने इसे देखा था, तब तक इसे 66 हज़ार डिसलाइक्स मिल गए थे, और महज़ 4.5 के करीब लाइक्स मिले थे. वो भी तब जब पीएम मोदी ने बोलना भी शुरू नहीं किया था. शुरू होने से ही पहले ही युवा अपनी भड़ास निकल रहे थे।

ऑप्शन बंद और फिर चालू

फिर जैसे ही 11 बजे, इवेंट की लाइव स्ट्रीमिंग शुरू हुई तो वीडियो पर लाइक-डिसलाइक का ऑप्शन ही बंद कर दिया गया. और कमेंट का ऑप्शन भी बंद कर दिया.

थोड़ा समय बीता. दोबारा लाइक-डिसलाइक का ऑप्शन बीजेपी के यूट्यूब चैनल के इस वीडियो पर चालू कर दिया गया. हमने दोबारा इसे चेक किया, तो देखा कि डिसलाइक्स की संख्या 88 हज़ार हो गई है, और महज़ 11 हज़ार लाइक्स मिले हैं. लेकिन कमेंट्स का ऑप्शन बंद ही रखा गया. ये जो संख्या बताई है, लाइक-डिसलाइक की, ये उस वक्त की है जब पीएम मोदी प्रोबेशनरी IPS अधिकारियों को संबोधित कर रहे थे.

BJP क्या कहती है?

जब ‘मन की बात’ शो में डिसलाइक्स का मामला सामने आया था, तो भाजपा IT सेल के हेड अमित मालवीय ने ट्वीट कर कहा था कि ये सारे डिसलाइक्स ‘बॉट्स’ हैं. कहा था कि 98 फीसद डिसलाइक्स विदेशी अकाउंट्स से किए गए हैं. वहीं डिसलाइक्स का केवल 2 फीसद हिस्सा भारत से है. कांग्रेस पर भी निशाना साधा था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *