झारखण्ड के 79 हजार किसानों का कर्ज माफ़ करेगी राज्य सरकार, कृषि मंत्री ने किया बड़ा घोषणा

Jamshedpur : राज्य के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने बुधवार 15 July 2020 को यहां बड़ी एलान की, कृषि मंत्री ने कहा कि सूबे के लगभग 79,004 कृषक शीघ्र ही कर्जमुक्त हो जायेंगे, उनके लगभग 2,000 करोड़ रुपये का उधार माफ कर दिया जायेगा, गवर्नमेंट ने इसका ड्राफ्ट तैयार कर लिया है, इस महीने के अंत तक सम्मत कर अगले महीने सभी खेतिहर के ऋण क्षमा कर दिये जायेंगे।

कृषि मंत्री जमशेदपुर स्थित सर्किट हाउस में प्रेस से बात कर रहे थे, उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने ही UPA -1 के कार्यकाल में देश में कृषकों के 70 हजार करोड़ रुपये का ऋण क्षमा किया था, सूबे में कृषि नीति तैयार की जा रही है, इसके लिए एक कमेटी का गठन किया गया है।

कृषि मंत्री श्री पत्रलेख ने कहा कि केंद्र सरकार राज्य के साथ पक्षपातपूर्ण व्यवहार कर रही है, झारखण्ड सरकार ने 5 बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर व गिरिराज सिंह से सूबे के लिए खास पैकेज की मांग की, लेकिन कुछ नहीं मिला, GST के मौजूदा स्वरूप से सूबे को हानि हो रहा है, उसकी भरपाई के लिए पैकेज की मांग की, लेकिन हर बार यह कहकर टाल दिया गया कि प्रधानमंत्री से बात करेंगे।

कृषि मंत्री बादल पत्रलेख ने कहा कि पहले की गवर्नमेंट ने हमें विरासत में खाली खजाना दिया है, इसी कारण से सरकार ने बजट का आकार छोटा किया है, लेकिन इसका हानि सूबे की पब्लिक को नहीं होने दिया जायेगा, कृषि उत्पादों के लिए अलग से गुड्स ट्रेन चलाने पर भी गवर्नमेंट के स्तर से विचार किया जा रहा है,

BDO के परिवार से मिले कृषि मंत्री

कृषि मंत्री ने कहा कि पालाजोरी के BDO नागेंद्र तिवारी की मृत्यु से वह निजी तौर पर आहत हैं, उन्होंने कहा कि वह दिवंगत BDO के परिजनों को ढाढ़स देने आये हैं, परिवार को इन्साफ भी दिलायेंगे, बीजेपी द्वारा नागेंद्र तिवारी की मृत्यु की जांच CBI से कराने की मांग के बारे में पूछे जाने पर श्री पत्रलेख ने कहा कि उन्हें गवर्नमेंट के तंत्र पर पूरा विश्वाश है, शीघ्र ही SIT का गठन किया जायेगा, जो भी आरोपी होगा, उसे अरेस्ट कर जेल भेजा जायेगा।

श्री पत्रलेख ने कहा कि साथ ही यह भी जांच करायी जायेगी कि क्या उन्होंने DC को या फिर अन्य वरीय अधिकारी से बालू माफिया द्वारा टॉचर करने या डिप्रेशन से जुड़ी कोई उलाहना की थी, अगर उन्होंने किसी से शिकायत की थी, तो उस पर क्या कार्रवाई की गयी, सभी पहलुओं पर रिसर्च होगी, साथ ही कहा कि हेमंत सोरेन की गवर्नमेंट नागेंद्र तिवारी के परिवार के साथ खड़ी है।

बाजार समिति को सुदृढ़ बनाया जायेगा

झारखंड के कृषि मंत्री ने कहा कि यह सच है कि सूबे की बाजार समिति की हालत काफी बुरी है, उससे सरकार को राजस्व नहीं आ रहा है, साथ ही भांडागार के स्थिति भी खस्ता हैं, शीघ्र ही इसका सुचारु रूप से संचालन हो सके, इसके लिए सभी बाजार समितियों की आलोचना होगी।

इसमें व्यापारियों की बातों को सुनने के साथ ही छोटे दुकानदारों व स्थानीय लोगों की बातें भी सुनी जायेंगी, इसके बाद ऐसा सिस्टम तैयार किया जायेगा, जिससे बाजार समिति का संचालन सुचारु रूप से हो सके और गवर्नमेंट को राजस्व भी मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *