सुब्रमण्यम स्वामी के बयान ने मचाई सनसनी, कहा पैर था टूटा हुआ था सुशांत का

Mumbai : सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस के मामले में सुब्रमण्यम स्वामी ने बड़ा खुलासा किया है। स्वामी के इस खुलासे से सुशांत सुसाइड केस में नया एंगल सामने आया है। सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि सुशांत के पैर मुड़े हुए थे, जैसे टूटने के बाद होता है। स्वामी ने कहा कि यह जानकारी शव ले जाने वाले एंबुलेंस के स्टाफ ने दी।

डॉक्टरों से कड़ाई से हो पूछताछ

स्वामी ने कहा कि सुशांत के पोस्टमार्टम करने वाले डॉक्टरों से कड़ाई से पूछताछ करने की जरूरत है. उन्होंने ने कहा कि सीबीआई को कूपर हॉस्पिटल में सुशांत के पोस्टमार्टम करने वाले पांचों डॉक्टरों से कड़ी पूछताछ करनी चाहिए. क्योंकि शव ले जाने वाले स्टाफ ने बताया है कि सुशांत के पैर टखने के नीचे से मुड़े हुए थे जैसे पैर टूटने के बाद हो जाता है.

हत्या का बता चुके हैं 26 कारण

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत को न्याय दिलाने के लिए जस्टिस फॉर सुशांत कैंपेन की शुरुआत करने वाले बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने 26 बड़ी वजहें बताई थी. जिनकी वजह से सुशांत सिंह की हत्या का दावा पुख्ता होता है. स्वामी ने कहा था कि सुशांत की गर्दन पर मिले निशान बेल्ट जैसी किसी चीज से लगे हैं. पुलिस सुशांत की सुसाइड में इस्तेमाल किए गए कपड़े के जिस फंदे का जिक्र कर रही है वह भी कई सवाल खड़े करता है. यह भी संभव है कि सुशांत के बेडरूम में एंटी डिप्रेशन ट्रांसप्लांट किए गए हो. सुशांत के सुसाइड की जब खबर आई तो बताया गया कि वह वीडियो गेम खेल रहे थे. जो शख्स वीडियो गेम खेल सकता है वह डिप्रेशन नहीं हो सकता और जो डिप्रेस्ड होगा वह वीडियो गेम नहीं खेल सकता.

स्वामी ने कहा था कि एक इतने बड़े स्टार ने सुसाइड जैसा कदम उठा लिया लेकिन उसमें एक सुसाइड नोट नहीं लिखा. यह अपने आप में हैरानी भरा है. एक तनाव में रहने वाला इंसान जाने से पहले बहुत कुछ लिखता है. सुसाइड नोट जरूर छोड़ता है. लेकिन सुशांत ने ऐसा कुछ भी नहीं किया. सुशांत सिंह राजपूत को इंसाफ दिलाने के लिए सुब्रमण्यम स्वामी लगातार कैंपेन चला रहे हैं.

सुशांत सिंह राजपूत को 14 जून को उनके मुंबई स्थित आवास पर फांसी के फंदे से लटका पाया गया था. उनके पार्थिव शरीर को उसी दिन पोस्टमार्टम के लिए कूपर अस्पताल भेजा गया था. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में अभिनेता की मौत को स्पष्ट तौर पर आत्महत्या का मामला करार दिया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *