अयोध्या में अस्पताल संस्कृति से ज्यादा मंदिर संस्कृति की जरूरत है: बंगाल भाजपा प्रदेश अध्यक्ष

Kolkata: अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण के लिए भूमि पूजन समारोह बीते 5 अगस्त को आयोजित किया गया था और अब यह आशा है कि भव्य राम मंदिर 32 महीने में पूरा हो जाएगा। लेकिन इस बीच, बयानों का सिलसिला जारी है और ताजा बयान पश्चिम बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष (Dilip Ghosh) ने दिया है। उन्होंने कहा कि अस्पताल की संस्कृति से अधिक अयोध्या में मंदिर संस्कृति की जरूरत है। दरअसल, कई लोग अभी भी सोशल मीडिया (Social Media) पर Ram Mandir भूमि पूजन का विरोध कर रहे हैं, लोगों का कहना कि लोगों को फ़ायदा पहुंचाने के लिए मंदिर के स्थान पर एक अस्पताल स्थापित किया जाना चाहिए था। ऐसे लोगों की बंगाल के भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने आलोचना की है। उन्होंने एक बयान में कहा, “वहां (अयोध्या में) अस्पताल बनाने की वकालत करने वालों में समझ की कमी है। अस्पताल की संस्कृति से ज्यादा मंदिर की संस्कृति की जरूरत है।

BJP प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने अयोध्या में एक अस्पताल बनाने के पक्ष में बात कर रहे लोगों को यह कहते हुए लताड़ लगाई कि वे स्वयं लोगों को पर्याप्त स्वास्थ्य सुविधाएं देने में विफल रहे हैं। हालाँकि दिलीप घोष ने किसी पार्टी या व्यक्ति का नाम नहीं लिया, लेकिन उनके बयान से पता चलता है कि वह एक राजनेता को निशाना बना रहे हैं। अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाने वाले दिलीप घोष ने यह भी कहा कि जो लोग अपने धर्म के बारे में बोलने से डरते हैं, वे राम मंदिर के निर्माण के खिलाफ बोल रहे हैं, लेकिन जो लोग अपने विश्वास पर गर्व करते हैं और भगवान राम के पूजा करते हैँ, वे इसका समर्थन कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *