नाव की हालत पहले से ही जर्जर थी,जिसपर 30 लोग सवार थे ; जान बचाने के लिए हाथ-पैर मारते रहे लोग

कोटा: जिले की सीमा के आखिरी क्षेत्र खातौली क्षेत्र के गोठड़ा गांव में आज सुबह एक नाव चम्बल नदी में डूब गई. इस नाव में 30 से 35 लोग सवार थे जिसमे से 15 से 20 लोगों के डूबने की संभावना है. इसके साथ ही इनमे से अब तक 7 लोगों के शव बाहर निकाले जा चुके हैं. सभी शवों की पहचान हो चुकी है. मृतकों की संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है. वहीं 14 लोगों को सुरक्षित बाहर निकालने की भी जानकारी सामने आ रही है. नाव में सवार लोग कमलेश्वर महादेव मंदिर में दर्शन करने जा रहे थे. नाव में महिलाएं और बच्चे भी सवार थे. ।

नाव में 14 बाइक भी नदी पार करवाने के लिए रखीं गई थीं। शुरुआती जांच में सामने आया कि नाव की हाल पहले से खराब थी। जिसमें क्षमता से ज्यादा यात्रियों को बैठाया गया था। साथ ही नदी पार करवाने के लिए नाव के साथ बाइकें भी बांध दी गई थीं। जिसके कारण नाव वजन नहीं सह सकी और डूब गई। कुछ दूर जाने पर ही पानी भरने लगा। पानी में डूबे लोग जान बचाने के लिए हाथ पैर मारते रहे।

सीएम गहलोत ने ट्वीट कर लिखा कि कोटा में थाना खातोली क्षेत्र में चम्बल ढिबरी के पास नाव पलट जाने की घटना बेहद दुखद एवं दुर्भाग्यपूर्ण है। हादसे का शिकार हुए लोगों के परिजनों के प्रति मेरी गहरी संवेदनाएं। कोटा प्रशासन से बात कर घटना की जानकारी ली है। तत्परता से राहत एवं बचाव के साथ ही लापता लोगों को शीघ्र ढूंढने के निर्देश दिए हैं। स्थानीय पुलिस एवं प्रशासन घटनास्थल पर मौजूद है। प्रभावित परिवारों को मुख्यमंत्री सहायता कोष से मदद के लिए निर्देश दिए हैं।

मुकदमा दर्ज कर जांच करवाई जाएगी

मौके पर पहुंचे कोटा जिला कलेक्टर उज्जवल राठौड़ ने बताया कि घटना के बाद गांव वाले सबसे पहले मौके पर पहुंचे। उन्होंने काफी लोगों की जान बचाई। कुल 14 लोग लापता बताए जा रहे हैं। जिसमें से कुछ शव मिल गए हैं। इस घटना में मुकदमा दर्ज कर जांच करवाई जाएगी। पहले नांव को सीज कर दिया गया ता। इसके बावजूद लोग ट्यूब के जरिए बाइक ले जाते हैं। मृतक अलग-अलग शहर के हैं। जो मंदिर दर्शन करने गए थे।

नदी की गहराई 40 – 50 फीट

कोटा ग्रामीण एसपी शरद चौधरी ने बताया कि कई लोगों का शव निकाला जा चुका है। कुछ का निकाला जा रहा है। रेस्क्यू जारी है। नाव की जांच होगी, क्यों चल रही थी। चंबल के इस पार कोटा जिले का खातोली थाना है। चंबल के उस पार बूंदी जिले का इंदरगढ़ थाना है। दोनों तरफ प्रशासन मौजूद है। एसडीआरएफ भी दोनों जगह ही मौजूद है। नदी की गहराई 40 से 50 फीट बताई जा रही है। जिसके लिए ऑक्सीजन सिलेंडर की मदद से भी रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *