कोरोना वायरस टिके को लेकर डब्ल्यूएचओ की चेतावनी, सेवन के बाद जादुई गोली की तरह नहीं होगा असर

NEW DELHI : पुरे संसार में कोवीड -19 का प्रकोप बहुत तेजी से फैल रहा है, भारत इस वक्त सबसे ज्यादा कोरोना की चपेट में आने वाला देश बना चुका है, प्रतिदिन के आंकड़ों में देश ने अमेरिका और ब्राजिल को भी पीछे छोड़ दिया है, इस दोरान कोरोना टिका को लेकर डब्ल्यूएचओ ने चेतावनी जारी कर दी है, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जाहिर कर दिया कि कोवीड का वैक्सीन कोई जादुई गोली नहीं होगा, जो खाया और तुरंत ठीक हो गये।

अमेरिकी शीर्ष वैज्ञानिक के सलाहकार ने भी दी चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन के डायरेक्टर टेड्रोस एडहोम ने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि कोवीड के खिलाफ हमें लंबी लड़ाई लड़नी है, इसके लिए हमें तैयार रहना होगा, गौरतलब है कि कोवीड -19 का टिका को लेकर कई बड़ी दवा कंपनियां काम कर रही हैं, जिसमें कंपिनयों को तो बड़ी सफलता भी मिल चुकी है और ऐसा दावा किया जा रहा है कि बहुत जल्द वैक्सीन मार्किट में मौजूद होंगे।

रूस का दावा है कि वह कोरोना वायरस वैक्सीन को स्वीकृति देने वाला प्रथम देश बनने जा रहा है जहां अक्टूबर की आरम्भ में उन वैक्सीनों की सहायता से सामूहिक टिका लगाया जाएगा जिनका अभी तक क्लिनिकल जाँच पूरा नहीं हुआ है, दूसरी ओर दुनिया भर के साइंटिस्ट परेशान हैं कि कहीं प्रथम आने की यह दौड़ नाकाम न हो जाए।

जॉर्जटाउन विश्वविद्यालय में वैश्विक जन स्वास्थ्य कानून विशेषज्ञ, लॉरेंस गोस्टिन ने कहा, मुझे टेंशन है कि रूस बहुत जल्दबाजी कर रहा है जिससे कि वैक्सीन न केवल निष्फल होगा बल्कि असुरक्षित भी, उन्होंने कहा, यह इस तरतीब से कार्य नहीं करता है सबसे पहले समीक्षा होना चाहिए, वह सबसे महत्वपूर्ण है।

बारह अगस्त को रूस में टिका का होगा रजिस्ट्रेशन

पुरे संसार में रूसी कोवीड वैक्सीन पर उठते प्रश्ननो के बीच रूस के हेल्थ मिनिस्टर म‍िखाइल मुराश्‍को ने कहा है कि रूस की टिका परीक्षण में सफल रही है और अब अक्‍टूबर माह से देश में व्‍यापक पैमाने पर लोगों के टीकाकरण काम कार्य आरम्भ होगा। उन्‍होंने कहा कि इस टिके को लगाने में आने वाला पूरा खपत गवर्नमेंट उठाएगी। वहीं डिप्टी हेल्थ मिनिस्टर ओलेग ग्रिदनेव ने कहा कि रूस बारह अगस्‍त को संसार की पहली कोवीड -19 टिके को पंजीकरण कराएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *